Google+ Followers

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

चदरिया

जिंदगी साफ़ महीन चादर-सी

धुली धुली हर सुबह

ढक लेती सब कुछ।

सिमटते हुए हर लम्हे को

एक मासूम तबस्सुम देकर

समा लेती खुद में।

अंतहीन तहों में लिपटी

चादर जिंदगी की।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें