Google+ Followers

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

सब गलत

मैंने कहा तुम गलत हो

तुमने कहा मैं गलत हूँ

फिर दोनों ने कहा वे गलत हैं

उन्होंने कहा वे सब गलत हैं

एक ही शोर- चहुँ ओर।

खुद को सही कहने में

हो गए हम सब गलत।

इस गोल धरती पर

सीधे खड़े कैसे रहें बाबा...!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें