Google+ Followers

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

कलाम का सपना

वो सपना

जो सोने नहीं देता था उसको

ढूंढ ही लेगा किसी बच्चे की आँख

पाएगा ठिकाना।

उड़ाएगा उसकी भी नींद

जगाएगा उसे भगाएगा उसे भी।

बनेगा वो भी एक दिन कलाम,

या किसे पता उससे भी बड़ा।

ये कलाम का सपना है दोस्त

माटी में सोया है

अंकुरित तो होगा ही।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें